Poem

Latest awesome collection of Motivational & Inspirational Poem in Hindi. Fb Status Hindi is the best place to read different kind of poems.

Best Hindi Poems Collection

जिंदगी 

गरीब मिलो चलता है भोजन पाने के लिए,
अमीर मिलो चलता है उसे पचाने के लिए!

किसी के पास खाने के लिए एक वक्त की रोटी नहीं,
किसी के पास एक रोटी खाने के लिए वक्त नहीं!

कोई अपनों के लिए अपनी रोटी छोड़ देता है,
कोई रोटी के लिए अपनों को छोड़ देता है!

कोई दौलत के लिए सेहत खो देता है,
कोई सेहत के लिए दौलत खो देता है!

जीते ऐसे हैं जैसे कभी मरेंगे नहीं,
मर ऐसे जाते हैं जैसे कभी जिये ही नहीं!

एक मिनट में जिंदगी नहीं बदलती,
एक मिनट में लिया गया फैसला जिंदगी बदल देता है!!!

Scroll down to read our latest Hindi poems.

एक बुड्ढा आया साथ में एक बुढ़िया लाया
होटल में जाकर बेटर को बुलाया

दोनों ने अपना अपना ऑर्डर मंगवाया
पहले बुड्ढे ने खाया बुढ़िया ने बिल चुकाया

फिर बुढ़िया ने खाया बुड्ढे ने बिल चुकाया
यह देखकर वेटर का सिर चकराया

वह उनके पास आया और बोला
जब तुम दोनों में इतना प्यार है तो एक साथ क्यों नहीं खाया

इस पर बुड्ढे ने फरमाया “जानी तेरा सवाल तो नेक है
पर हमारे पास दांतो का सेट सिर्फ एक है”!!!

शायर

मैं अकेला हूं शायद, डगर में अब कोई नहीं है
किधर जा रहा हूं, फिक्र भी अब कोई नहीं है

निकम्मा, आवारा, खुदगर्ज जो कहना है कहो
पर याद रहे किस्मत मेरी अभी सोई नहीं है

गुमनाम मंजिल की तलाश में, खो गया हूं
शायद मिलेगी नई राह, यह उम्मीद अभी खोयी नहीं है

मतलब की दुनिया में, थोड़ा दर्द हुआ है मुझे भी
बस ज़रा सी नम है, आंखें मेरी अभी रो ही नहीं है!!!

Motivational & Inspirational Poem in Hindi

क्यों थम गये तेरे कदम
तू किस लिए उदास है,
उम्मीदें क्यों मायूस हैं
क्यों खुद पे कम विश्वास हैं
क्या ढूंढता फिरता है तू
क्या है नही जो पास हैं,
जरा देख खुद को एक दफ़ह
तू लगता जिंदा लाश है

खुद पे भरोसा कर ना तू
उम्मीद जग की छोड़ दे
ये जग जो मुह है फेरता
तू भी ये राहे मोड़ दे
आंखों को खोले सो रहा
लाचार बनके रो रहा
तुझको नही मालूम ये
तू खुद ही खुद को खो रहा
अफसोस होगा तुझको ही
क्या ये तुझे अहसास है,
जरा देख खुद को एक दफ़ह
तू लगता जिंदा लाश है


राहे कठिन तो क्या हुआ
इन कदमो को आगे बढ़ा
मत मान पहले हार तू
जब तक नही है तू लड़ा
बेख़ौफ़ चल ,बेबाक चल
जब तक नही होता सफल
छुपी जीत पीछे हार के
कर जीत का निश्चय अटल
सब झौक दे सब झौक दे
जब तक ये अंतिम सांस है
जरा देख खुद को एक दफ़ह
तू लगता जिंदा लाश है

तू रुक नही ,तू झुक नही
एक सास ले,और सुन ज़रा
ले कर्मरूपी सुई तू,
फटी जिंदगी को बन ज़रा
है कर्मभूमी जिंदगी
रथ पे चढ़ा अर्जुन है तू
है सारथी(कृष्ण) तेरा हौसला
ये मान की सर्वगुण है तू
जो ना चलाया अस्त्र अब
तो जान ले सब नाश है
जरा देख खुद को एक दफह
तू लगता जिंदा लाश है…

Story